शेयर बजार क्या है

क्या आप भी शेयर बाजार में पैसा लगाने के लिए सोच रहे हैं ? लेकिन शेयर बाजार में पैसा लगाने से पहले यह जान लेना चाहिए की शेयर बाजार के फायदे और नुकसान क्या है।

शेयर बाज़ार एक ऐसा बाज़ार है जहाँ कंपनियों के शेयर खरीदे-बेचे जा सकते हैं। किसी भी दूसरे बाज़ार की तरह शेयर बाज़ार में भी खरीदने और बेचने वाले एक-दूसरे से मिलते हैं और मोल-भाव कर के सौदे पक्के करते हैं। पहले शेयरों की खरीद-बिक्री मौखिक बोलियों से होती थी और खरीदने-बेचने वाले मुंहजबानी ही सौदे किया करते थे। लेकिन अब यह सारा लेन-देन स्टॉक एक्सचेंज के नेटवर्क से जुड़े कंम्प्यूटरों के जरिये होता है। इंटरनेट पर भी यह सुविधा मिलती है। आज स्थिति है कि खरीदने-बेचने वाले एक-दूसरे को जान भी नहीं पाते।

एक प्रकार से देखे तो यहाँ पे शेयरों की नीलामी होती है। अगर किसी को बेंचना होता है तो सबसे ऊंची बोली लगाने वाले को ये शेयर बेंच दिया जाता है। या अगर कोई शेयर खरीदना चाह्ता है तो बेचने वालो मे से जो सबसे कम कीमत पे तैयार होता है उससे शेयर खरीद लिया जाता है।

उद्देश्य

कंपनियों के पास पैसे जुटाने के कुछ महत्वपूर्ण स्थान में शेयर बाजार भी है। इसमें कंपनियाँ अपने कंपनी का कुछ हिस्सा शेयर बाजार में आईपीओ जारी कर रखते हैं। इससे उन्हें हिस्सेदारी देने के बदले पैसे मिलते हैं। इन पैसों को कंपनियों को वापस लौटाने की जरूरत नहीं होती है और कंपनियाँ पैसों का उपयोग अपने तरक्की में ही करते हैं, न कि डेब्ट (ऋण) की रकम जमा करने में, जिसमें उन्हें वो पैसे तो देने ही होते हैं, पर साथ ही ब्याज भी देना होता है।

क्या है शेयर बाजार के फायदे

(1) निवेश की शुरुआत

सबसे पहले, यदि आप शेयर बाजार में निवेश करने का निर्णय लेते हैं, तो आप उन 95% लोगों से अलग हो जाते हैं जो शेयर बाजार में निवेश नहीं करते हैं। इसलिए इस बात की अधिक संभावना है कि आप लंबे समय में अन्य 95% लोगों से अच्छा मुनाफा कमा सकते हैं। क्योंकि आज के समय में शेयर बाजार ही एक ऐसी जगह है जहां बहुत अच्छा रिटर्न कमाया जा सकता है.

(2) बेहतर दीर्घकालिक रिटर्न

यदि आप उचित शोध और विश्लेषण करके शेयर बाजार में निवेश करते हैं, तो आप लंबे समय में अन्य सभी निवेश विकल्पों पर सर्वोत्तम रिटर्न प्राप्त कर सकते हैं।

पीपीएफ, सुकन्या समृद्धि योजना, गोल्ड, बैंक फिक्स्ड डिपॉजिट इत्यादि जैसे अन्य सभी निवेश विकल्पों की तुलना में लंबे समय में स्टॉक मार्केट रिटर्न बेहतर हो सकता है। इसलिए यदि आप सही तरीके से स्टॉक चुनना सीखते हैं, तो आप शेयर बाजार में अधिक पैसा कमा सकते हैं। पारंपरिक निवेश विकल्पों की तुलना में।

(3) अल्पावधि में उच्च रिटर्न की संभावना

यदि किसी व्यक्ति का शेयर बाजार में व्यापार करने में थोड़ा सा हाथ है, तो वह कम समय में व्यापार करके आसानी से बड़ा लाभ कमा सकता है। ट्रेडिंग से मुनाफा कमाना शेयर बाजार का सबसे बड़ा फायदा है। कई शेयर बाजार के व्यापारी शेयर बाजार में शॉर्ट टर्म ट्रेडिंग से बड़ा पैसा कमाते हैं।

लेकिन बिना सीखे और रिसर्च के की गई ट्रेडिंग भी काफी नुकसानदेह हो सकती है।

(4) व्यापार या कंपनी में हिस्सेदारी

उदाहरण के लिए, मान लें कि आपको कोलगेट कंपनी का बिजनेस मॉडल पसंद है। आप चाहते हैं कि आप भी इस व्यवसाय में पैसा लगा सकें। लेकिन आज के समय में हम शेयर मार्केट के जरिए किसी भी बिजनेस में पैसा लगा सकते हैं।

कोलगेट कंपनी के शेयर शेयर बाजार में सूचीबद्ध होते हैं, आप जितनी कोलगेट कंपनी के शेयर खरीदते हैं, उसके अनुपात में आप निवेशित कंपनी के मालिक बन जाएंगे।

इस तरह आप शेयर बाजार में निवेश करके किसी भी व्यवसाय या कंपनी में हिस्सेदारी खरीद सकते हैं। इसे शेयर बाजार का सबसे बड़ा फायदा माना जा सकता है।

(5) लाभांश, बोनस की प्राप्ति

जब आप शेयर खरीदकर किसी कंपनी में हिस्सेदारी हासिल करते हैं, तो आप कंपनी द्वारा भुगतान किए गए लाभांश और बोनस जैसी चीजों के हकदार होते हैं।

लाभांश का भुगतान कंपनी द्वारा अपने लाभ या आरक्षित निधि में से किया जाता है, जो केवल उन व्यक्तियों द्वारा प्राप्त किया जाता है जिनके पास उस कंपनी के शेयर होते हैं।

(6) कोई न्यूनतम निवेश आवश्यकता नहीं

शेयर बाजार में निवेश करने के लिए कोई न्यूनतम निवेश की आवश्यकता नहीं है। आप शेयर बाजार में जितना चाहें उतना पैसा लगा सकते हैं। साथ ही, निवेश की जाने वाली अधिकतम राशि की कोई सीमा नहीं है।

(7) मतदान का अधिकार

आप किसी भी कंपनी के शेयर खरीदकर कंपनी में स्वामित्व प्राप्त करते हैं। इसके साथ ही आपको वोट देने का अधिकार भी मिलता है ताकि आप वोट कर सकें और कंपनी के फैसले में अपने अधिकार का प्रयोग कर सकें।

(8) उच्च तरलता

शेयर बाजार के फायदों में एक और प्लस प्वाइंट यह है कि शेयर बाजार में निवेश करने से हमें उच्च तरलता मिलती है। आप शेयर बाजार में अपने शेयर मिनटों में खरीद और बेच सकते हैं ताकि जरूरत पड़ने पर आपको अपना पैसा आसानी से मिल सके।

निवेश के और भी कई विकल्प हैं जिनमें आपका पैसा लॉक हो जाता है। यानी इनका एक निश्चित लॉक-इन-पीरियड होता है। आप उस अवधि तक उस पैसे को वापस नहीं ले सकते। लेकिन शेयर बाजार में ऐसी कोई समस्या नहीं है।

(9) सुरक्षित निवेश वातावरण

कोई भी व्यक्ति सबसे ज्यादा भावनात्मक रूप से अपने पैसे से जुड़ा होता है। जब भी वह पैसा निवेश करता है, तो उसे इस बात की चिंता होती है कि वह जिस जगह निवेश कर रहा है वह सुरक्षित है या नहीं।

लेकिन शेयर बाजार में सेबी यानी सिक्योरिटी एंड एक्सचेंज बोर्ड ऑफ इंडिया इस असुरक्षा की भावना को दूर करता है। सेबी भारत में वित्तीय बाजार को नियंत्रित करता है और यह सुनिश्चित करता है कि सभी निवेशकों के हितों की रक्षा हो।

वह शेयर बाजार की सभी अनियमितताओं को दूर कर एक स्वच्छ वातावरण बनाने का प्रयास करता है। यदि कोई व्यक्ति अपनी दृष्टि में दोषी पाया जाता है, तो उसे कड़ी सजा मिलती है।

(10) मुद्रास्फीति संरक्षण

मुद्रास्फीति एक दीमक है जो समय के साथ आपके पैसे के मूल्य को कम करती रहती है। जिसे आज आप ₹100 में खरीद सकते हैं, 5 साल बाद आप उसी कीमत पर नहीं खरीद पाएंगे। इसे ही महंगाई कहते हैं।

महंगाई से निजात पाने के लिए निवेश के कई विकल्प हैं, लेकिन इनमें से ज्यादातर निवेश विकल्प महंगाई को मात नहीं दे पाते हैं। लेकिन शेयर बाजार एक ऐसी जगह है जहां आप महंगाई से ज्यादा रिटर्न देकर न सिर्फ महंगाई को मात देते हैं बल्कि अतिरिक्त रिटर्न भी पैदा करते हैं।

इसलिए अगर आप महंगाई से निजात पाना चाहते हैं तो शेयर बाजार से बेहतर निवेश का कोई विकल्प नहीं हो सकता।

क्या है शेयर बाजार के नुकसान

शेयर बाजार के फायदे और नुकसान के इस अध्याय में हमने बात की कि शेयर बाजार के क्या फायदे हैं। लेकिन हर चीज के फायदे ही नहीं इसके कुछ नुकसान भी होते हैं।

इसलिए आपको सिक्के के दोनों पहलुओं को समझने की जरूरत है। शेयर बाजार के नुकसान को आप निम्न बिन्दुओं के माध्यम से समझ सकते हैं।

(1) स्थिरता की कमी

शेयर बाजार का पहला नुकसान यह है कि इसमें स्थिरता का अभाव होता है। शेयर बाजार में शेयर की कीमत ऊपर-नीचे होती रहती है। बाजार कई तरह की खबरों और खबरों से प्रभावित होता है, जिससे उसमें उतार-चढ़ाव की संभावना बनी रहती है।

अगर आप ट्रेडर हैं तो इस उतार-चढ़ाव से आपको काफी नुकसान उठाना पड़ सकता है।

(2) उच्च जोखिम

शेयर बाजार में उतार-चढ़ाव के कारण काफी जोखिम मौजूद है। अगर आप बिना सोचे-समझे और रिसर्च किए किसी शेयर में निवेश करते हैं तो आपके जोखिम की मात्रा और बढ़ जाती है।

लेकिन अगर आप गुणवत्ता वाले शेयरों में निवेश करते हैं, तो लंबे समय में आपका जोखिम काफी कम हो जाता है और आपको अच्छा रिटर्न मिलने की संभावना बढ़ जाती है। हालांकि, एक व्यापारी लगातार उच्च जोखिम के संपर्क में रहता है।

(3) भावनात्मक निर्णय लेना

शेयर बाजार में नुकसान का एक सबसे बड़ा कारण यह है कि निवेशक या व्यापारी भावनाओं के आधार पर निर्णय लेते हैं। शेयर बाजार में भावनाओं की सबसे बड़ी भूमिका होती है। अपनी भावनाओं पर नियंत्रण रखने वाला व्यक्ति शेयर बाजार में आसानी से पैसा कमा सकता है।

शेयर बाजार में नुकसान से बचने के टिप्स आप यहां से पढ़ सकते हैं।

(4) ब्रोकरेज

जब भी आप शेयर बाजार में कोई शेयर खरीदते और बेचते हैं तो आपको अपने स्टॉक ब्रोकर को ब्रोकरेज देना होता है। यदि आप डिलीवरी में स्टॉक उठाते हैं, तो आपको थोड़ा कम ब्रोकरेज देना होगा। लेकिन इंट्राडे ट्रेडिंग में कई तरह के चार्ज लगते हैं, जिससे आपकी ब्रोकरेज बहुत ज्यादा हो जाती है।

साथ ही, आपको अपने डीमैट खाते को संभालने के लिए स्टॉकब्रोकर को हर साल एक निश्चित वार्षिक रखरखाव शुल्क (एएमसी) भी देना होगा। तो यह शेयर बाजार में निवेश करने का एक बड़ा नुकसान है।

(5) कोई निश्चित रिटर्न नहीं

शेयर बाजार में कोई निश्चित रिटर्न नहीं होता है। शेयर बाजार का रिटर्न पूरी तरह से आपके कौशल और दक्षता पर निर्भर करता है। जितना अधिक आप इसमें दक्ष होंगे, उतना ही अधिक आपको अच्छा रिटर्न मिल सकता है।

एक नए निवेशक को शेयर बाजार से पैसा कमाने में काफी मुश्किलों का सामना करना पड़ सकता है।

(6) शॉर्ट टर्म ट्रेडिंग करना

शेयर बाजार में प्रवेश करने वाले नए लोग जल्दी मुनाफा कमाने के लिए शॉर्ट टर्म ट्रेडिंग करना शुरू कर देते हैं। क्योंकि शॉर्ट टर्म ट्रेडिंग बहुत जोखिम भरा होता है, इसमें नुकसान की संभावना भी बहुत ज्यादा होती है।

शॉर्ट टर्म ट्रेडिंग बिना सीखे और उचित शोध किए कभी नहीं करना चाहिए, अन्यथा आप इसमें अपनी पूरी पूंजी खो सकते हैं।

(7) अधिकारों में कमी

वैसे तो किसी कंपनी के शेयर खरीदने के बाद आप कंपनी के शेयरधारक बन जाते हैं। इसके अलावा आप वोटिंग के जरिए कंपनी के फैसलों में भी शामिल हो सकते हैं। लेकिन आपका वोटिंग आमतौर पर कंपनी के फैसलों को प्रभावित नहीं करता है।

इसके अलावा आप निवेशित कंपनी में जाकर कंपनी से जुड़े किसी भी तरह के सबूत या रिकॉर्ड नहीं देख सकते हैं। कंपनी चाहे तो अपने फायदे के लिए गलत जानकारी भी दे सकती है।

निष्कर्ष

तो ये थे शेयर बाजार के फायदे और नुकसान। शेयर बाजार में निवेश करने के कई फायदे और नुकसान हैं। लेकिन ये नुकसान आपको तब ज्यादा दर्द देते हैं जब आप शेयर बाजार में गलत व्यवहार करते हैं। यानी आप बिना सोचे समझे व्यापार करते हैं या आप अपने विजन को लेकर स्पष्ट नहीं हैं।

तो अगर आप शेयर बाजार में निवेश करना चाहते हैं तो निवेश जरूर कर सकते हैं। लेकिन आपको अनुशासित और नियमित तरीके से निवेश करना होगा।

यह भी पढ़ें:-   सबसे अच्छा म्यूचुअल फंड रिटर्न पर टैक्स

Author

Write A Comment