राजीव गांधी की पुण्यतिथि

राजीव गांधी (20 अगस्त1944 – 21 मई1991), इन्दिरा गांधी और फिरोज गांधी के बड़े पुत्र और जवाहरलाल नेहरू के दौहित्र (नाती), भारत के सातवें प्रधानमन्त्री थे।
राजीव का विवाह एन्टोनिया माईनो से हुआ जो उस समय इटली की नागरिक थी। विवाहोपरान्त उनकी पत्नी ने नाम बदलकर सोनिया गांधी कर लिया। कहा जाता है कि राजीव गांधी से उनकी मुलाकात तब हुई जब राजीव कैम्ब्रिज में पढ़ने गये थे। उनकी शादी 1968 में हुई जिसके बाद वे भारत में रहने लगी। राजीव व सोनिया(एंटोनिया माइनो) की दो बच्चे हैं, पुत्र राहुल गांधी का जन्म 1970 और पुत्री प्रियंका गांधी का जन्म 1972 में हुआ।

जब देश स्वतंत्र हुआ, राजीव गांधी केवल 3 वर्ष के थे प्रधानमंत्री राजीव गांधी नेहरू गांधी परिवार के अंतिम सदस्य राजीव गांधी राजनीति में आने से पहले एक पेशेवर पायलट थे।

राजीव गांधी ने अपनी पढ़ाई पूरी करने के लिए पहले लंदन और फिर कैम्ब्रिज कॉलेज में पढ़ाई की लेकिन वहां उन्हें डिग्री नहीं मिली। फिर राजीव गांधी दिल्ली लौट आए और फ्लाइंग क्लब में पायलट की ट्रेनिंग लेने लगे और 70 ई. में राजीव गांधी पायलट के तौर पर एयर इंडिया से जुड़ गए।

आरोप

आरोप था कि राजीव गांधी परिवार के नजदीकी बताये जाने वाले इतालवी व्यापारी ओत्तावियो क्वात्रोक्की ने इस मामले में बिचौलिये की भूमिका अदा की, जिसके बदले में उसे दलाली की रकम का बड़ा हिस्सा मिला। कुल चार सौ बोफोर्स तोपों की खरीद का सौदा 1.3 अरब डालर का था। आरोप है कि स्वीडन की हथियार कम्पनी बोफ़ोर्स ने भारत के साथ सौदे के लिए 1.42 करोड़ डालर की रिश्वत बाँटी थी।

इतिहास

काफी समय तक राजीव गांधी का नाम भी इस मामले के अभियुक्तों की सूची में शामिल रहा लेकिन उनकी मौत के बाद नाम फाइल से हटा दिया गया। सीबीआई को इस मामले की जाँच सौंपी गयी लेकिन सरकारें बदलने पर सीबीआई की जाँच की दिशा भी लगातार बदलती रही। एक दौर था, जब जोगिन्दर सिंह सीबीआई चीफ़ थे तो एजेंसी स्वीडन से महत्वपूर्ण दस्तावेज लाने में सफल हो गयी थी। जोगिन्दर सिंह ने तब दावा किया था कि केस सुलझा लिया गया है। बस, देरी है तो क्वात्रोक्की को प्रत्यर्पण कर भारत लाकर अदालत में पेश करने की। उनके हटने के बाद सीबीआई की चाल ही बदल गयी। इस बीच कई ऐसे दाँवपेंच खेले गये कि क्वात्रोक्की को राहत मिलती गयी। दिल्ली की एक अदालत ने हिन्दुजा बन्धुओं को रिहा किया तो सीबीआई ने लन्दन की अदालत से कह दिया कि क्वात्रोक्की के खिलाफ कोई सबूत ही नहीं हैं। अदालत ने क्वात्रोक्की के सील खातों को खोलने के आदेश जारी कर दिये। नतीजतन क्वात्रोक्की ने रातों-रात उन खातों से पैसा निकाल लिया।

जुनून: राजीव गांधी की पुण्यतिथि

राजीव गांधी के बारे में बहुत कम लोग जानते हैं या कि राजीव गांधी राजनीति में आने से पहले एक पायलट थे, लेकिन एक पायलट होने के साथ-साथ उन्हें फोटोग्राफी का भी बहुत शौक था, उनके द्वारा खींची गई फोटो को कई प्रकाशकों में प्रकाशित करने के बारे में सोचा। लेकिन राजीव गांधी ने किसी प्रकाशक को अपनी तस्वीर प्रकाशित करने की अनुमति नहीं दी।

फिर राजीव गांधी की मृत्यु के बाद उनकी पत्नी सोनिया गांधी ने उनके द्वारा खींची गई तस्वीरों को एक किताब के रूप में दुनिया के सामने पेश किया। उस किताब का नाम है ‘राजीव्स वर्ल्ड-फोटोग्राफ्स बाय राजीव गांधी’।

यह भी पढ़े:–  डीमैट अकाउंट फ्रॉड क्या होता है और इस फ्रॉड से कैसे बचें

Author

Write A Comment